Category: Informative Blog

  • जीवन में खेलों का महत्व / Importance of games in life

    जीवन में खेलों का महत्व / Importance of games in life

    आज हम जीवन में खेल के महत्व के बारे में चर्चा करेंगे, खेल हर किसी के जीवन में बहुत महत्वपूर्ण है, क्योंकि खेल स्वस्थ शरीर और स्वस्थ दिमाग का निर्माण करते हैं। अगर कोई स्वस्थ शरीर पाने के लिए खेल खेलता है, तो कई लोग खेल में रुचि के कारण इस क्षेत्र में अपना करियर बनाते हैं और पेशेवर रूप से खेल खेलते हैं।

    खेलों का महत्व
    खेलों का महत्व

    बहुत से लोग तनाव मुक्त रहने और अपने मनोरंजन के लिए गेम खेलते हैं। फिलहाल पिछले कुछ सालों में हमारे देश में खेलों को बड़े पैमाने पर बढ़ावा दिया गया है।

    इसके साथ ही खेलों से होने वाले फायदों को देखते हुए आजकल स्कूलों में पढ़ाई के साथ-साथ खेलों को भी जगह दी जाती है, ज्यादातर स्कूलों में खेलों का पीरियड होता है, ताकि बच्चे खेलों के प्रति जागरूक हो सकें और उनके महत्व को समझ सकें। अच्छे से समझें और इससे खुद को स्वस्थ रखें।

    इतना ही नहीं, आजकल स्कूलों और कॉलेजों में कई तरह की खेल प्रतियोगिताएं भी आयोजित की जाती हैं, जिसमें बच्चों को खेलों में भाग लेने के लिए प्रेरित किया जाता है ताकि उनमें खेल प्रतिभा विकसित हो सके।

    खेल कई हज़ार वर्षों से हमारे मानव समाज का हिस्सा रहे हैं। खेलों के महत्व को कम नहीं आंका जा सकता। खेलों से न केवल बच्चों की सीखने की क्षमता का विकास होता है, बल्कि युवा और बुजुर्ग भी खेल गतिविधियों में भाग लेकर स्वस्थ और खुशहाल जीवन जी सकते हैं।

    खेल के माध्यम से न केवल व्यक्ति शारीरिक रूप से स्वस्थ रह सकता है, बल्कि अपना मानसिक तनाव भी दूर कर सकता है, मोटापा कम कर सकता है, नींद में सुधार कर सकता है और तमाम बीमारियों से दूर रहकर स्वस्थ जीवन जी सकता है। है।

    इसके साथ ही खेल सामाजिक बनने और आत्मविश्वास बढ़ाने में भी मदद करते हैं। इतना ही नहीं खेल से अनुशासन, सहनशीलता और धैर्य जैसे गुणों का विकास होता है।

    खेल हर किसी के जीवन में बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि खेल से ही स्वस्थ शरीर और स्वस्थ दिमाग का निर्माण होता है। अगर कोई स्वस्थ शरीर पाने के लिए खेल खेलता है, तो कई लोग खेल में रुचि के कारण इस क्षेत्र में अपना करियर बनाते हैं और पेशेवर रूप से खेल खेलते हैं।

    बहुत से लोग तनाव मुक्त रहने और अपने मनोरंजन के लिए गेम खेलते हैं। फिलहाल पिछले कुछ सालों में हमारे देश में खेलों को बड़े पैमाने पर बढ़ावा दिया गया है।

    इसके साथ ही खेलों से होने वाले फायदों को देखते हुए आजकल स्कूलों में पढ़ाई के साथ-साथ खेलों को भी जगह दी जाती है, ज्यादातर स्कूलों में खेलों का पीरियड होता है, ताकि बच्चे खेलों के प्रति जागरूक हो सकें और उनके महत्व को समझ सकें। अच्छे से समझें और इससे खुद को स्वस्थ रखें।

    इतना ही नहीं, आजकल स्कूलों और कॉलेजों में कई तरह की खेल प्रतियोगिताएं भी आयोजित की जाती हैं, जिसमें बच्चों को खेलों में भाग लेने के लिए प्रेरित किया जाता है ताकि उनमें खेल प्रतिभा विकसित हो सके।

    खेल दो प्रकार के होते हैं- इनडोर गेम, ऐसे खेल घर के अंदर भी खेले जा सकते हैं जैसे- कैरम, लूडो, सांप-सीढ़ी, नंबर गेम सुडोकू, शतरंज आदि।

    ये खेल व्यक्ति की मानसिक क्षमता को विकसित करने और मन को एकाग्र करने में मदद करते हैं, साथ ही बहुत मनोरंजक भी होते हैं, इसलिए लोग अपने खाली समय में अपने बच्चों, दोस्तों और परिवार के साथ खेलते हैं।

    आउटडोर गेम्स के दौरान घर से बाहर ऐसे खेल खेले जाते हैं, जैसे क्रिकेट, बैडमिंटन, खो-खो, कबड्डी, बास्केटबॉल और वॉलीबॉल आदि। ऐसे खेल मनुष्य के शारीरिक विकास में बहुत मदद करते हैं। ये खेल मानसिक तनाव भी दूर करते हैं और मनोरंजन भी करते हैं।

    जाहिर सी बात है कि आजकल लोग अपनी जिंदगी में इतने व्यस्त हो गए हैं कि वह अपने लिए समय ही नहीं निकाल पाते हैं, ऐसे में आजकल कई तरह की बीमारियां भी फैल रही हैं और मोटापे की समस्या भी आम हो गई है। फिलहाल, खेल शारीरिक गतिविधि का एक अच्छा विकल्प है और इसके कई फायदे हैं।

    बच्चों के लिए खेल का महत्व –

    खेल कई हज़ार वर्षों से हमारे मानव समाज का हिस्सा रहे हैं। खेलों के महत्व को कम नहीं आंका जा सकता। खेलों से न केवल बच्चों की सीखने की क्षमता का विकास होता है, बल्कि युवा और बुजुर्ग भी खेल गतिविधियों में भाग लेकर स्वस्थ और खुशहाल जीवन जी सकते हैं।

    खेल के माध्यम से न केवल व्यक्ति शारीरिक रूप से स्वस्थ रह सकता है, बल्कि अपना मानसिक तनाव भी दूर कर सकता है, मोटापा कम कर सकता है, नींद में सुधार कर सकता है और तमाम बीमारियों से दूर रहकर स्वस्थ जीवन जी सकता है। है।

    इसके साथ ही खेल सामाजिक बनने और आत्मविश्वास बढ़ाने में भी मदद करते हैं। इतना ही नहीं खेल से अनुशासन, सहनशीलता और धैर्य जैसे गुणों का विकास होता है।

    खेल हर किसी के जीवन में बहुत महत्वपूर्ण हैं, क्योंकि खेल से ही स्वस्थ शरीर और स्वस्थ दिमाग का निर्माण होता है। अगर कोई स्वस्थ शरीर पाने के लिए खेल खेलता है, तो कई लोग खेलों में रुचि के कारण इस क्षेत्र में अपना करियर बनाते हैं और पेशेवर रूप से खेल खेलते हैं।

    बहुत से लोग तनाव मुक्त रहने और अपने मनोरंजन के लिए गेम खेलते हैं। फिलहाल पिछले कुछ सालों में हमारे देश में खेलों को बड़े पैमाने पर बढ़ावा दिया गया है।

    इसके साथ ही खेलों से होने वाले फायदों को देखते हुए आजकल स्कूलों में पढ़ाई के साथ-साथ खेलों को भी जगह दी जाती है, ज्यादातर स्कूलों में खेलों का पीरियड होता है, ताकि बच्चे खेलों के प्रति जागरूक हो सकें और उनके महत्व को समझ सकें। अच्छे से समझें और इससे खुद को स्वस्थ रखें।

    इतना ही नहीं बल्कि आजकल स्कूलों और कॉलेजों में कई तरह की खेल प्रतियोगिताएं भी आयोजित की जाती हैं, जिसमें बच्चों को खेलों में भाग लेने के लिए प्रेरित किया जाता है ताकि उनमें खेल प्रतिभा विकसित हो सके।

    खेल दो प्रकार के होते हैं- इनडोर गेम, ऐसे खेल घर के अंदर भी खेले जा सकते हैं जैसे- कैरम, लूडो, सांप-सीढ़ी, नंबर गेम सुडोकू, शतरंज आदि।

    ये खेल व्यक्ति की मानसिक क्षमता को विकसित करने और मन को एकाग्र करने में मदद करते हैं, साथ ही बहुत मनोरंजक भी होते हैं, इसलिए लोग अपने खाली समय में अपने बच्चों, दोस्तों और परिवार के साथ खेलते हैं।

    आउटडोर गेम्स के दौरान घर से बाहर ऐसे खेल खेले जाते हैं, जैसे क्रिकेट, बैडमिंटन, खो-खो, कबड्डी, बास्केटबॉल और वॉलीबॉल आदि। ऐसे खेल मनुष्य के शारीरिक विकास में बहुत मदद करते हैं। ये खेल मानसिक तनाव भी दूर करते हैं और मनोरंजन भी करते हैं।

    जाहिर सी बात है कि आजकल लोग अपनी जिंदगी में इतने व्यस्त हो गए हैं कि वह अपने लिए समय ही नहीं निकाल पाते हैं, ऐसे में आजकल कई तरह की बीमारियां भी फैल रही हैं और मोटापे की समस्या भी आम हो गई है। फिलहाल, खेल शारीरिक गतिविधि का एक अच्छा विकल्प है और इसके कई फायदे हैं।

    बच्चों के लिए खेल का महत्व
    खेल बच्चों के विकास में अहम भूमिका निभाते हैं। खेल के माध्यम से बच्चों में सीखने और समझने की क्षमता विकसित होती है। खेल बच्चों के शारीरिक विकास के साथ-साथ मानसिक विकास में भी बहुत मदद करते हैं।

    खेल से बच्चों में सामाजिक समझ भी विकसित होती है। इसके साथ ही खेल बच्चों में सामाजिक गुणों के विकास में भी काफी मददगार साबित होते हैं, क्योंकि खेल के दौरान ही बच्चा दूसरे बच्चों से मिलता-जुलता है।

    इसके साथ ही खेल बच्चों की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में भी बहुत सहायक होते हैं। खेल के माध्यम से ही बच्चों में टीम वर्क के गुणों का विकास होता है, जिस तरह से पूरी टीम के सहयोग से जीत हासिल की जाती है उससे बच्चों के अंदर टीम वर्क के गुणों का विकास होता है।

    इसके साथ ही, जिस तरह से खेल खेला जाता है उसमें सभी नियमों को ध्यान में रखा जाता है और जीतने के लिए सही चाल और सही प्रयास किए जाते हैं, इससे बच्चों को जीत के मूल्य को समझने में भी मदद मिलती है, जो उन्हें भविष्य में सफल होने में मदद करेगी। इससे उन्हें उपलब्धि हासिल करने में भी मदद मिलती है.

    युवाओं के लिए खेल का महत्व

    युवाओं को अपनी शारीरिक गतिविधियों में खेलों को अवश्य शामिल करना चाहिए, क्योंकि इससे वे स्वस्थ और फिट रहेंगे, साथ ही उन्हें अपने जीवन के लक्ष्यों में सफलता प्राप्त करने में भी मदद मिलेगी।

    जाहिर सी बात है कि आज जीवन में कई चुनौतियां हैं, जिनका सामना स्वस्थ रहकर और शांत मन से ही किया जा सकता है। इसलिए युवाओं के जीवन में भी खेलों का विशेष महत्व है। वहीं, युवा न केवल व्यक्तिगत विकास के लिए खेल खेल रहे हैं बल्कि पेशेवर तौर पर भी खेल खेल रहे हैं और खेलों में अपना करियर बनाने के लिए आगे बढ़ रहे हैं।

    वरिष्ठ जनों के लिए खेल का महत्व

    खेल हमें हमारे शरीर में होने वाली सभी बीमारियों से दूर रखते हैं, इसलिए स्वस्थ रहने के लिए वयस्कों के जीवन में खेल बहुत महत्वपूर्ण हैं, व्यायाम जैसे कुछ खेल खुद को स्वस्थ रखने में मदद करते हैं।

    इसके साथ ही यह हार्ट अटैक, ब्लड प्रेशर और सांस संबंधी सभी बीमारियों से लड़ने की क्षमता भी देता है। वहीं, शोध में यह भी पाया गया है कि वीडियो गेम खेलने से कई बुजुर्गों की याददाश्त, तर्क क्षमता और संज्ञानात्मक कार्यों में भी काफी हद तक सुधार हुआ है।

    Benefits of sports

    1. बीमारियों से दूर रखें और फिट रहने में मदद करें.
    2. खेल शारीरिक विकास में सहायक होते हैं।
    3. खेल मानसिक तनाव से मुक्ति दिलाते हैं।
    4. खेल से आत्मविश्वास बढ़ता है।
    5. खेलों के माध्यम से ही मनुष्य में धैर्य और सहनशीलता जैसे गुणों का विकास होता है।
    6. खेल व्यक्ति के अंदर टीम के साथ काम करने की क्षमता विकसित करते हैं।
    7. खेल से व्यक्ति में समय की पाबंदी एवं अनुशासन की भावना विकसित होती है।
    8. खेल मनुष्य को उत्साह एवं नई ऊर्जा प्रदान करते हैं।
    9. खेल मानव शरीर में चुस्ती और ऊर्जा लाते हैं।
    10. स्वस्थ राष्ट्र के निर्माण में खेल बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

    Read these also: Important things for the proper development of children

  • प्राथमिक चिकित्सा का महत्व / Importance Of First Aid

    प्राथमिक चिकित्सा का महत्व / Importance Of First Aid

    आए दिन दुर्घटनाएं बढ़ती जा रही हैं। आज हम प्राथमिक उपचार के महत्व पर चर्चा करेंगे ताकि घायल व्यक्ति को प्राथमिक उपचार मिल सके जिससे उसकी हालत बिगड़ने से बचाई जा सके।

    प्राथमिक उपचार के महत्व

    प्राथमिक चिकित्सा के उद्देश्य:-

    • .दुर्घटना में रोगी को नियंत्रण में रखना
    • प्राथमिक चिकित्सा दवा नहीं है.
    • क्षतिग्रस्त अंगों की स्थिति में सुधार.
    • घायल व्यक्ति की रक्षा के लिए.
    • गंभीर हालत में मरीज को अस्पताल में भर्ती कराना.

    सिद्धांत:-

    1. घायल व्यक्ति की गंभीरता को समझें और उसके अनुसार कार्य करें।
    2. साँस लेने पर ध्यान दें और यदि आवश्यक हो तो कृत्रिम आत्मविश्वास दें।
    3. कपड़े ढीले करो.
    4. घायल व्यक्ति के पास भीड़ एकत्र न होने दें।
    5. सामान्य घायल व्यक्ति को हिलाना नहीं चाहिए।
    6. जानकारी के अनुसार चाय या दूध का प्रयोग करें।
    7. पानी में डूबे हुए व्यक्ति को उल्टा करके या बेट दबाकर पानी निकालना।
    8. दुर्घटना के समय जल्दबाजी न करें और सावधानी से काम करें।

    प्रथम उपचारक गुण:-

    1. यथासंभव प्रशिक्षित रहें।
    2. साहस और शक्ति के साथ आत्मविश्वासी बनें।
    3. धैर्य और आत्मसंयम रखें.
    4. धैर्य रखें।
    5. सामाजिक एवं मृदुभाषी बनें।

    प्राथमिक उपचार के लिए आवश्यक सामग्री:-

    1. वायुरोधी डिब्बा.
    2. रूमाल, रस्सी, तौलिया.
    3. सुई, धागा, रुई, रिबन, पिन, कैंची, ब्लेड आदि।

    जलने या झुलसने का उपचार:-

    1. सबसे पहले कंबल से ढककर आग बुझाएं।
    2. चिपचिपे कपड़ों को छोड़कर बाकी कपड़ों को काट दें।
    3. पीड़ित को सोडियम बाइकार्बोनेट (खाने का सोडा) के घोल में डुबोएं या छिड़कें या रुई में डुबोकर गांव में बांध दें।
    4. अधिक से अधिक तरल पदार्थ दें।
    5. जले हुए स्थान पर जैतून या नारियल का तेल लगाएं।
    6. बरनाल का उपयोग करना।

    आँखों में किसी वस्तु का पढ़ना :-

    1. आप इसे समझ नहीं पाते हैं और इसे रगड़ते नहीं हैं।
    2. सामान्य तापमान के पानी से चीते को मारने या हथेली में पानी लेने से आंखें डूब जानी चाहिए।

    गले में किसी चीज का फंस जाना:-

    1. कपड़े या कागज की बत्ती बनाकर नाक में रखें, छींक आने पर चीज बाहर आ जाएगी।
    2. तम्बाकू या मिर्च सूंघने से छींक आ जायेगी

    गले में किसी चीज का फंस जाना:-

    1. रोगी का चेहरा नीचे करके उसकी गर्दन पर धीरे से थपकी देने से फंसी हुई वस्तु बाहर निकल आती है।
    2. दो या तीन अंगुलियों की सहायता से जीभ को नीचे दबाने से उल्टी के कारण वस्तु बाहर आ जाती है।

    प्राथमिक चिकित्सा व्यक्ति के गुण

    • Viveki (observant), so that he can recognize the signs of accident;
    • tactful, so as to gain the patient’s trust by obtaining incident information as quickly as possible;
    • resourceful, so that he helps nature by using the means closest to him;
    • dexterous, so that he can use such measures that the patient does not suffer in lifting etc.;
    • Explicit, so that he can lead properly in helping people;
    • discriminator, by which to identify serious and fatal injuries and treat them first;
    • Persevering, who does not get disappointed even if he does not get immediate success and
    • Should be sympathetic, so that he can console the patient.

    इन्हें भी पढ़े : बच्चों के सही विकास के लिए जरुरी बातें

  • गंजेपन का समाधान (The Best Solution For Baldness)

    गंजेपन का समाधान (The Best Solution For Baldness)

    गंजापन एक ऐसी स्थिति है जिसमें आपके सिर से अत्यधिक बाल झड़ जाते हैं, जिससे आपकी खोपड़ी साफ दिखने लगती है। जब सिर से सारे बाल झड़ जाते हैं तो इसे 100 प्रतिशत गंजापन कहा जाता है। देखा जाए तो हर व्यक्ति के सिर से प्रतिदिन 50 से 100 बाल झड़ते हैं, जो सामान्य है। लेकिन जब आपके हर दिन अधिक बाल झड़ते हैं और झड़ने की तुलना में नए बाल कम उगते हैं, तो यह निश्चित रूप से चिंता का विषय है इसे गंजापन कहते हैं। जब बाल एक पैटर्न में झड़ते हैं, चाहे पुरुष हो या महिला, इसे गंजापन भी कहा जाता है।

    गंजेपन का समाधान

    तेल मालिश

    अगर आप गंजेपन की समस्या से परेशान हैं तो आपको नियमित रूप से अपने सिर की मालिश करनी चाहिए क्योंकि ऐसा करने से बालों के रोम सक्रिय हो जाते हैं और बालों का विकास फिर से सक्रिय हो जाता है। गंजे सिर पर बाल उगाने का यह सबसे आसान उपाय है। ,

    मेंहदी

    इसके लिए आपको मेहंदी की पत्तियों की जरूरत पड़ेगी. सबसे पहले आपको मेहंदी की मुलायम पत्तियों को तेल में उबालना है और फिर इसे ठंडा करके इससे अपने सिर की मालिश करनी है। ऐसा आपको हफ्ते में कम से कम दो बार करना है. कुछ ही दिनों में आपको फर्क नजर आने लगेगा।

    हरी चाय के माध्यम से

    ग्रीन टी पीना शरीर के लिए बहुत फायदेमंद होता है। यह शरीर की चर्बी को कम करती है, शुगर और कोलेस्ट्रॉल के स्तर को संतुलित रखती है आदि। ग्रीन टी में कुछ औषधीय गुण पाए जाते हैं जो बालों को मजबूत बनाने और उन्हें झड़ने से रोकने का काम करते हैं। बालों के झड़ने की समस्या से छुटकारा पाने के लिए आप इसका इस्तेमाल कर सकते हैं।

    सबसे पहले आपको ग्रीन टी को कुछ देर तक गर्म करना है, जब यह अच्छे से गर्म हो जाए तो इसे ठंडा होने दें और फिर उस पानी से अपने बालों को धो लें। इसके बाद आपको अपने बालों को साफ पानी से धोना है। लेकिन अगर आप इसे बिना शैम्पू और साबुन के 2 से 4 हफ्ते तक करते हैं तो आपको फर्क दिखना शुरू हो जाएगा और आपकी ताकत फिर से बढ़ने लगेगी और मजबूत होने लगेगी।

    आप धनिये की पत्तियों का भी इस्तेमाल कर सकते हैं. धनिये की पत्तियों में कुछ औषधीय गुण पाए जाते हैं जो बालों के झड़ने और गंजेपन की समस्या से राहत दिलाते हैं। ताजा धनिये की पत्तियों को पीसकर पेस्ट तैयार कर लें और फिर इसे अपने सिर पर अच्छी तरह लगाएं। जब यह पूरी तरह सूख जाए तो नहाते समय इसे धो लें। इस पेस्ट को कुछ दिनों तक इस्तेमाल करने से आपके बालों का झड़ना कम हो जाएगा और नई मजबूती भी आने लगेगी।

  • जर्मन कैमोमाइल के फायदे

    जर्मन कैमोमाइल के फायदे

    जर्मन कैमोमाइल के लाभ:

    कैमोमाइल, जिसे आमतौर पर जर्मन कैमोमाइल के नाम से जाना जाता है, को “औषधीय प्रजातियों में सितारा” भी कहा जाता है। यह भारत में व्यापक रूप से उगाया जाता है और अपने फूलों के लिए जाना जाता है जो अरोमाथेरेपी में उपयोग किए जाने वाले आवश्यक तेल का उत्पादन करते हैं। व्यावसायिक रूप से, कैमोमाइल तेल का उपयोग इत्र, सौंदर्य प्रसाधन और खाद्य उद्योग में किया जाता है। आज इस पेज पर हम जानेंगे कि इसके और इसकी चाय के सेवन से क्या फायदे होते हैं।

    Benefits Of German Chamomile
    Benefits Of German Chamomile

    अनिद्रा का इलाज करता है

    कैमोमाइल चाय नींद की समस्या या नींद संबंधी विकारों से पीड़ित लोगों के लिए एक उत्कृष्ट प्राकृतिक उपचार है। कैमोमाइल चाय में सुखदायक और शांत प्रभाव होता है, जो नींद लाता है। कैमोमाइल चाय के नियमित सेवन से आप अच्छी नींद पा सकते हैं और नींद से जुड़ी समस्याओं का समाधान कर सकते हैं।

    रूसी से छुटकारा

    इस चाय की चुस्कियों के अलावा आप इसके सामयिक लाभ भी प्राप्त कर सकते हैं। अपने बालों को कैमोमाइल चाय से धोने से खोपड़ी की जलन कम हो सकती है और खोपड़ी को सूखने में मदद मिल सकती है। ऐसा इसके एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों के कारण होता है।

    प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देता है

    यदि आप अक्सर सर्दी और खांसी से पीड़ित रहते हैं, तो कैमोमाइल चाय आपके लिए समाधान होनी चाहिए। कैमोमाइल चाय में जीवाणुरोधी गुण होते हैं, जो प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने और इसे ठीक से काम करने में मदद करते हैं। कैमोमाइल चाय के नियमित सेवन से आपको सर्दी और खांसी होने की संभावना कम हो सकती है।

    सामान्य सर्दी के लक्षणों का इलाज करता है

    प्राचीन काल में कैमोमाइल फूल की कलियों का उपयोग इस उद्देश्य के लिए किया जाता था। जब आप सामान्य सर्दी से पीड़ित हों, तो आप एक गर्म कप कैमोमाइल का आनंद ले सकते हैं। वैकल्पिक रूप से, आप कुछ कैमोमाइल कलियों को गर्म पानी में भिगो सकते हैं और इस कैमोमाइल-युक्त भाप को अंदर ले सकते हैं।

    पेट की ऐंठन का इलाज करता है।

    कैमोमाइल चाय में सूजन-रोधी गुण होते हैं, जो मासिक धर्म और पेट से संबंधित अन्य ऐंठन को कम करने में मदद कर सकते हैं। चाय गर्भाशय की मांसपेशियों को आराम देती है, जिससे दर्द से राहत मिलती है। यह शरीर में ग्लाइसिन के स्तर को बढ़ाकर काम करता है, जो मांसपेशियों की ऐंठन की तीव्रता को कम करने में मदद करता है।

    चिंता को ठीक करता है

    चिंता का इलाज करने में मदद के लिए कैमोमाइल का उपयोग प्राचीन काल से किया जाता रहा है। कैमोमाइल का शरीर पर सुखदायक और शांत प्रभाव पड़ता है, जो झुलसी हुई नसों को शांत करने में मदद कर सकता है और इस प्रकार चिंता को कम कर सकता है। रोजाना कैमोमाइल चाय पीने से चिंता को कम करने में मदद मिल सकती है।

    हृदय रोगों से लाभ

    कैमोमाइल चाय एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होती है और इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं, जो दिल को मजबूत और स्वस्थ रखने में बहुत फायदेमंद साबित हो सकते हैं। कैमोमाइल चाय में फ्लेवोनोइड्स होते हैं जो कोरोनरी धमनी रोगों और दिल के दौरे के जोखिम को कम करते हैं।

    घावों और संक्रमण का इलाज करता है

    कैमोमाइल का उपयोग न केवल हर्बल अर्क के रूप में किया जा सकता है, बल्कि इसका उपयोग त्वचा पर घावों के इलाज के लिए भी किया जा सकता है। खरोंच और जले पर थोड़ी मात्रा में कैमोमाइल चाय रगड़ने से उन्हें तेजी से ठीक होने में मदद मिल सकती है।

  • Lavender तेल के फायदे

    Lavender तेल के फायदे

    चिंता और अवसाद के लिए

    Lavender ऑयल में Anti Axiety और एंटी-डिप्रेसेंट गुण पाए जाते हैं, जो चिंता और डिप्रेशन के लक्षणों को कम कर सकते हैं। यह चिंता के कारण होने वाली बेचैनी और उत्तेजना को भी कम कर सकता है। Lavender तेल में मेंहदी और चाय के पेड़ के आवश्यक तेल मिलाकर मूड स्विंग और मनोवैज्ञानिक तनाव को कम किया जा सकता है। इसके लिए आप डिफ्यूज़र में Lavender ऑयल की कुछ बूंदें डालकर कमरे में रख सकते हैं ।

    मतली कम करें

    गर्भावस्था के दौरान जी मिचलाना या उल्टी होना आम बात है। कई बार ऐसा सामान्य स्थिति में भी हो सकता है, जिसके कई कारण हो सकते हैं, जैसे फूड एलर्जी, गैस या किसी दवा का साइड इफेक्ट. ऐसे में Lavender ऑयल के साथ अरोमाथेरेपी लेने से राहत मिल सकती है। शोध में पाया गया है कि यह गुलाब के आवश्यक तेल की तुलना में बेहतर परिणाम देता है। इसके लिए आप डिफ्यूज़र में Lavender ऑयल की कुछ बूंदें डालकर कमरे में रख सकते हैं

    प्राकृतिक इत्र की तरह काम करें

    Lavender की मनभावन खुशबू के कारण इसे परफ्यूम के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है । जब इसे इत्र के रूप में उपयोग किया जाता है, तो यह न केवल आपको अच्छी खुशबू देता है, बल्कि यह आपके मूड को भी बेहतर बनाता है और आपको तरोताजा रखने में मदद कर सकता है।

    मांसपेशियों के लिए फायदेमंद

    अगर आप मांसपेशियों में अकड़न से पीड़ित हैं, तो इससे राहत पाने के लिए आप Lavender ऑयल का इस्तेमाल कर सकते हैं । Lavender तेल के गुण मांसपेशियों को आराम देने में मदद कर सकते हैं। साथ ही यह जोड़ों के दर्द से राहत दिलाने में भी मदद कर सकता है. इसके लिए आप Lavender ऑयल की कुछ बूंदें प्रभावित जगह पर लगाकर मसाज कर सकते हैं ।

    कीड़े के काटने के घावों को ठीक करता है

    शोध में पाया गया है कि Lavender तेल का उपयोग कीड़े के काटने से हुए घावों को ठीक करने के लिए किया जा सकता है। यह घावों को ठीक करता है और उन्हें जल्दी ठीक करने में मदद करता है । Lavender तेल को एक अच्छा कीट विकर्षक भी माना जाता है। इसकी मदद से मच्छर, मक्खी और अन्य कीड़े शरीर से दूर रहते हैं ।

    शरीर को आराम दें

    शरीर को डिटॉक्सीफाई करने के लिए आप Lavender ऑयल का इस्तेमाल कर सकते हैं। Lavender में मौजूद एंटीबैक्टीरियल गुण त्वचा को साफ करने में मदद कर सकते हैं। इसके अलावा, यह तेल मांसपेशियों को आराम देता है और इसके अवसादरोधी गुण मन को शांत करने में मदद करते हैं ।

    बालों का झड़ना कम करें

    हमारे पूरे जीवन में बालों के विकास के तीन चरण होते हैं। एनाजेन (बाल बढ़ते हैं), टेलोजन (बाल झड़ते हैं) और कैटाजेन (एनाजेन और टेलोजन के बीच का चरण)। Lavender तेल से बालों की मालिश करने से कैटाजेन चरण को होने से रोका जा सकता है और एनाजेन चरण को लम्बा करने में मदद मिल सकती है। इस प्रकार यह आपके बालों को झड़ने से रोक सकता है और उन्हें बढ़ने में मदद कर सकता है ।

    एक प्राकृतिक कंडीशनर के रूप में कार्य करें

    कंडीशनर का काम बालों की चमक बढ़ाना, उलझे बालों को सुलझाना और उनमें नमी और खूबसूरती बनाए रखना है। इसके लिए कुछ प्रकार के तेल का भी उपयोग किया जा सकता है। ऐसा ही एक तेल है Lavender ऑयल। यह बालों को चमकदार बनाए रखता है । कंडीशनर के रूप में यह कितना प्रभावी होगा, इस पर अधिक शोध उपलब्ध नहीं है।

  • Know the way to grow hair from the first day

    Know the way to grow hair from the first day

    In today’s time, all women have this problem. Because the beauty of a woman comes from her hair only, the longer, thicker and thicker the hair, the more beautiful a woman looks. But it has become a kind of challenge for many women because today’s environment is not as clean as it used to be. Used to be beautiful. You will come to know that earlier there were no shampoos like today, nor any other facility, yet women’s hair used to be longer, today we will tell you about them on this page, using which you too can make your hair as before. You can do it as long as you want and that too in 1 week and you will see the difference from day one.

    Hair growth method

    Before knowing how to grow hair, know what are the main reasons for not growing hair.

    Growing old

    The reason for hair not growing or growing very slowly is because of your age, if you look at a child and see a 25-year-old woman, you will know that the child’s hair grows very fast as compared to the youth. The reason for this is that the child has a high amount of physical development hormones, due to which his body also grows faster and at the same time his hair too, if his hair is not cut at this age, then his hair It can be very long in the coming times.

    Nutritional deficiencies

    Your diet can also be the reason for not growing hair, if your hair is not growing then you have to change your diet and eat food rich in fibre, protein, antioxidants, vitamins and minerals for hair.

    Vegetable or fruitNutrients
    Citrus fruitsVitamin C
    CarrotVitamin A
    Avocadoomega-3 fatty acids, protein, fibre, and vitamins E and B
    SpinachVitamin A, Vitamin C, Beta Carotene, Iron and Folic Acid,
    CapsicumVitamin C and Antioxidants
    Raw onion Zinc, Iron and Biotin
    बालों की देखभाल
    Hair care

    Hormones

    Hair growth can also be due to hormones, for this you should first consult a doctor and only then take some medicine.

    Pollution problem

    Pollution causes the most damage to your hair, due to which your hair starts falling, there is no solution for this, because pollution has increased so much that it has become difficult to avoid it, but the rest of the measures that are being told if they are If you follow then no one can stop your hair from growing.

    Taking stress

    If you are under a lot of stress then you may have to face the problem of hair. You must have felt when you are in trouble or under stress, your hair starts falling, so you do not have to get angry as much as possible and keep yourself calm.

    The way to grow hair

    Eat right

    For hair, you should eat food rich in fibre, protein, antioxidants, vitamins and minerals, which you will get from the following vegetables and fruits, if you include them in your diet, then your hair can definitely grow.

    Don’t brush wet hair

    Many women definitely make this mistake, whenever they wash their hair, they always brush their wet hair or blow dry it with a towel, this is the mistake that makes your hair weak. You have to brush only after the hair is dry.

    Oil your hair regularly

    Regularly, if you apply oil, then your hair remains moist and shiny, due to which hair falls less, but you always have to use the same oil.

    Avoid shampooing hair daily

    Avoid shampooing hair daily because shampoo contains such harmful chemicals which have a direct effect on the hair roots, so you have to avoid shampooing daily.

    Trim hair

    Trimming means cutting the hair, you must have seen at the end of the hair, your hair becomes split, due to which your hair does not grow, so it is necessary to cut the hair, for this first decide the length that you How many hairs to cut Now put another rubber band just above the point where you want to cut the hair. Now cut the hair with scissors keeping it very straight.

  • Top workouts to lose weight (vajan kam karne ke upay)

    Top workouts to lose weight (vajan kam karne ke upay) – Top Yogasanas to Lose Weight Losing weight is a very difficult problem in today’s time Losing weight is very easy but if you know the right way then we will tell you those yoga asanas on this page which if you do every day Not only will your weight be reduced, but you will also become fit. For this read the whole page.

    Top workouts to lose weight (vajan kam karne ke upay)

     Sun Salutation (Surya Namaskar) –

    Surya Namaskar is one of the yoga asanas that helps you lose weight immensely, in this you can burn 13.90 calories in each round, you have to apply 12 repetitions per day, and with this, you can burn 416 calories, only 3.5 in each round to takes 4 minutes.

    Dhanurasana

    Dhanurasana Yogasana is especially effective in reducing belly fat, it reduces weight fast, this Yogasana also removes fat from hands and feet. In this, you have to stretch your body like a bow, that is why it is called Dhanurasana. It will not only reduce your weight but will also remove your back problems.

    cobra pose (Bhujangasana)

    By doing Bhujangasana, this asana reduces the extra fat accumulated on the stomach, hips, waist and thigh, in a way it is also very effective in increasing the height of the body. While doing this, putting more emphasis on the waist can cause a sprain in the waist, so if you are doing this for the first time, then save carefully.

    Bridge Pose (Setu Bandha Sarvangasana) –

    It is great for glutes, thyroid hormone as well as weight loss. By doing this yoga asana, it improves the level of the thyroid by toning the muscles, improving digestion and controlling hormones. That’s why it can be very effective for your body. Along with this, the muscles of the back are also strengthened, which helps in reducing your weight.

    Adho Mukha Svanasana (Downward Dog Pose)

    This asana should be done for proper breathing, it maintains the breath in your body. When you do this asana crate, you will surely know the different that benefits you get by doing this asana, it will help in the arms, hands, legs, thighs. And to tone your abdominal muscles, Bhujangasana or the cobra pose is a great option as well.

    Virabhadrasana – Warrior Pose

    When this pose is performed with proper breathing, it helps tone the muscles of your arms, hands, legs, thighs and your abdomen. Strengthening Your Buttocks Toning Your Abdominal Muscles Want to

    triangle pose

    Move the ring finger towards the palm of the hand and join it with the thumb. Place your hands on your thighs and knees and remain seated in this position. In the meantime, you can meditate. This mudra is to be done every day for 45 minutes at an interval of 15 minutes.

  • yoga poses to calm the mind and body

    yoga poses to calm the mind and body – Weight loss, a strong and flexible body, beautiful glowing skin, a peaceful mind, good health – whatever you seek, yoga gives you. Yoga is partially understood through only a few asanas, but its benefits are assessed only at the body level. What we fail to know is that yoga benefits us physically, mentally and in breathing. When you are with beautiful thoughts then your life journey is full of peace, happiness and more energy.

    yoga poses to calm the mind and body

    antonyms

    Anulom-Vilom This is the Yogasana that calms your mind by doing it. You must have heard that whenever you get angry, you are asked to take a deep breath and release it. In anulom-vilom, you have to keep one nostril closed and take a deep breath from the other nostril and then close the nostril from which you have breathed in and exhale by opening the nostril which you had previously closed. Have to leave, by doing this repeatedly your mind becomes calm. This keeps the nervous system balanced, as well as helps in controlling breathing.

    Bhujangasana

    Lie down on the ground on your stomach. Keep both your palms facing the ground near the thighs. Keep in mind that your ankles keep touching each other. Then straighten your hands and bend the waist upwards while doing this, keep in mind that there should not be too much pressure on the waist. By doing this, tension is removed and at the same time strengthens your arms, shoulders and upper back.

    Balasana

    Sit on the ground in Vajrasana, now while inhaling, lift both hands straight above the head. The palms are not to be joined. Now while exhaling, bend forward. If you do this, then you get relief from stress and anxiety, you must do it for at least 10 minutes, and do not do too much, as it can cause a sprain in your back.

    tree pose

    Stand up straight. Bend the right knee and place the right foot on the left thigh as high as possible. Eddy should be upwards and salvation should be towards the land. Weakness of the whole body on the left leg. Remaining straight. It helps you in your balance and concentration as well as strengthens the balancing muscles of the legs.

    dead body

    This is such a Yogasan in which there is no need to do anything, if you are not able to do the Yogasan given above, then you can easily do it, in this, you have to lie down straight and leave your body loose and breathe. It has to be taken and left for a long time, by doing this the tension reduces to a great extent.

    bridge pose

    In this, you have to first lie flat on your back. Then by bending the legs, the feet have to be brought close to your hips. After that, by putting emphasis on your hands, you have to raise the hips slowly. While doing this, you have to keep your feet firmly, and now you have to join both hands. If you do this, then your stress, fatigue and anxiety will go away.

    cobra pose

    Keep both your hands near the record. Your elbow should be bent. The lower part of the stomach should be on the ground and the hands, the upper part of the body, should try to look upwards and upwards. This improves your mood.

  • what to do for a sweet voice

    what to do for a sweet voice

    sweet voice – How to sweeten your voice Home Remedies: How to make voice sweet and melodious Clear and melodious voice has the most effect in impressing everyone, especially the lover who wants to express his heart to his beloved, if he It will be bad if he talks in voice. I like this. If you want, first of all, to make your voice melodious, listening to which everyone becomes crazy about you, for this, you do not have to do anything, just some tips are given below, follow them, you yourself will start seeing the difference. But it is necessary to do all these tips for 14 to 15 days, otherwise, you will not get the correct result.

    अपनी आवाज़ को मीठा कैसे करे घरेलु उपचार

    Tips on how to make voice sweet and melodious

    always keep the throat wet

    Keeping your throat always wet means that no matter what the weather is, you have to keep drinking water or any other beverage, these substances will keep your throat always moist, which will keep your vocal cords always moist and your voice will also remain moist. Be cool But cold drinks should not be consumed in these beverages, it is not good for your throat.

    chew liquorice

    Licorice is a wood that is easily available in the markets, the special thing about this wood is that if you chew it 3 to 4 times a day, and slowly swallow the saliva produced from it, then there is phlegm or bacteria. The throat becomes clear. This makes your voice melodious.

    अपनी आवाज़ को मीठा कैसे करे घरेलु उपचार

    eat lemon and honey

    You all know how important lemon is, if you consume lemon and honey in summer, you must have noticed the difference that your throat gets relief, and your throat feels clearer than before. But if you have never tried it, then for this first take a glass of water and add one lemon juice and one spoon of honey and drink it slowly, it will reduce your sore throat. If there is also a cough, it will end and also if your throat hurts, it will also be cured. You can consume it as many times as you want in a day, it will not harm you in any way. But you should consume it at least in the morning, evening and before sleeping.

    अपनी आवाज़ को मीठा कैसे करे घरेलु उपचार

    Chant Om (ॐ) regularly

    How to make your voice melodious and melodious, this question must have come in your mind, but if you are a Hindu, then it has been told in Hinduism i.e. Sanatan Dharma that the word Om is better than any other word. Words in the alphabet in Hindu culture. Om (ॐ) is such a word, whose chanting not only brings success, but it is also very effective for your throat. This is because its chanting causes vibrations in the throat and your voice becomes free.

    Honey, Ginger and Black Pepper

    Take a pinch of black pepper and 2 to 3 drops of ginger in a spoon and don’t swallow it in one go, swallow it slowly, use it for 14 to 20 days and see the difference yourself. Your throat will become melodious.

    avoid cold things

    How to make voice sweet and melodious Those who want a melodious voice should avoid consuming cold things. Anything inside cold items is dangerous for your throat. Cold dry and cold curd etc. should not be consumed. If you want, you can drink hot water. It will not harm your throat in any way. Apart from this, moisten your throat as well. Sometimes coconut water can be used for this. If you follow all these tips then you will get the answer of your wish that how to make your voice sweet and melodious.

    Take a sound nap.

    If you work out, you know how important rest days are. If you’re tired, just like a tired body, a tired voice is more likely to lead to injury. If you’re not feeling well, you’re sick, if your allergies are getting worse, or even if you’ve been working on your voice a lot (such as in rehearsal or when you’re preparing for an audition) ), then relax your voice. There is a dire need that you to give him rest.

    That means no talking, no singing and definitely no whispering, which is terrible for your larynx. A tired voice needs time to recover, so the longer you let it rest, the better. Vocal rest gives your delicate vocal folds time to recover and heal.

    you must read tips to enhance facial beauty

    top 6 tips to be fair

  • Easy way to quit drug addiction

    Easy way to quit drug addiction:- Addiction has become the biggest enemy of the young generation, today in this post we will discuss about addiction and how to stay away from it.

    nashe se mukti kaise mile home remedies in hindi health tips | घर बैठे नशा  छुड़ाने के कुछ जरूरी नुस्खे, कुछ दिनों में ही छूट जाएगी नशे की आदत |  Patrika News
    नशे से दूर

    It is important for youth to stay away from drugs

    A good man explained to a man who was deteriorating – “Brother! Alcohol is also a slow poison. Hearing this, he raised the glass, took a sip of wine and then said – We are also in no hurry to die. Slowly but surely…!’

    Students of elite homes are getting addicted to drugs day by day. Bringing together middle and lower-class children. To young men and women.

    How does one become addicted to drugs?

    First, the rich children spend their own money and intoxicate these economically weak children. Once they become addicted, they are left to themselves.
    Then they catch another similar group to spoil it. Once addicted, they will sell books, tell lies, and get money from lies. Will also steal.
    There will be fights with parents and siblings. Will oppose his words. Will even insult them.

    Spoiled youth, fond of drugs, cannot bear their troubles. Rather they will harass the elders only. This leads to the destruction of education. Houses are destroyed. Disintegration of society also occurs. This would lead to the destruction of the entire nation.
    Seems like This is a terrible situation. Parents should be cautious about this. The young generation should also understand their responsibilities.

    intoxicants

    Intoxicating pills, injections, and consumption of intoxicants in an indirect or indirect form started in fun and enjoyment. School-collegiate boys and girls start getting destructive needles like iodex padding. Unaware of the devastating consequences, the use of heroin, charas, brown sugar, and smack begins. Once addicted to it, it is purchased at expensive prices. Taking full advantage of this situation, the anti-social agencies that destroy society start blackmailing.

    drug trade

    Grandfathers started selling them in colleges and schools. Small stalls, gambling dens, travelling agents start selling them. Smack cigarettes are manufactured and sold. Even if society goes to hell, they still need customers and money.

    to stop addiction

    What should the government do? Various advertisements are shown through the media in newspapers and on TV, TV etc. in such a way that the young generation starts hating drugs. Kapil Dev, the youth’s favourite player, former fast bowler and maker of many records, is also working in similar advertisements. But who can understand this?

    The Government of India and provincial governments are increasing the cost of liquor and cigarettes every year. Even if it is done directly to increase revenue. But indirectly the aim is also to reduce its consumption. But no. The use of these intoxicants, alcohol and cigarettes is increasing day by day. Due to this, houses are being destroyed. Housewives cannot even provide two meals a day to their children! But they can’t live without drinking alcohol
    Patidev. What will the children learn?

    Which drug is consumed more?

    The more miserable people are, the more they are fond of drugs. Why don’t you have to drink a cheap purse, you will definitely drink it. Even if bad liquor turns out to be poisonous and kills dozens and hundreds of people, it is necessary to drink it. of this class
    No scale. No degree. No criteria. Accidents will definitely happen.

    The campus serial shown on TV also actually shows the hooliganism happening in the college, the falling standards in politics, and the evils and destruction caused by drugs. But this young generation should stay away from evil and do good.
    Instead of taking education, he chooses and learns new methods of enjoyment, relaxation and drug consumption. The thinking of our young generation has gone in the wrong direction. This has to be given a pleasant twist. These are happening till tomorrow due to these drug habits.

    reform of society

    If we want to improve the house, make the village better. The city has to be declared ideal. If you want to build the nation properly then you yourself should stay away from drugs and also keep a close watch on the children and protect them from anti-social elements.

    Our topic is beauty, health and methods to maintain it. How can these be increased? If we stay away from drugs and do not let our children and youth get addicted to them, it will have a good impact on our health.