Sun. Jul 14th, 2024
मुंह में बदबू

सांसों की बदबू अब एक आम समस्या बन गई है। सांसों की बदबू के कारण आपके शरीर को कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है, जैसे आलस्य और नींद न आना, मानसिक थकान, काले या पीले दांत, मसूड़ों की समस्या आदि।

muh me badabu

सांसों की बदबू के कारण

  • खाने के बाद मुंह या दांतों में बचा हुआ खाना आमतौर पर जीभ के पिछले हिस्से पर जम जाता है।
  • दांतों और जीभ पर सफेद रंग की पट्टिका जम जाती है।
  • मसूड़ों की सूजन के कारण भी सांसों की बदबू आती है।
  • हमारे मुंह के अंदर कई तरह के बैक्टीरिया या जीवाणु होते हैं और मुंह के अंदर की नमी इन जीवाणुओं के लिए बेहतर वातावरण का काम करती है। यहां बैक्टीरिया पूरी तरह स्वस्थ और सक्रिय रहते हैं और इसी वजह से मुंह से बदबू आती है।
  • पेट खराब होना भी सांसों की बदबू का एक बड़ा कारण है। कई बार अगर आपका पेट ठीक से काम नहीं कर रहा हो, किडनी की स्थिति ठीक न हो, फेफड़ों की बीमारी हो या सांस की बीमारी हो तो भी सांसों की बदबू एक आम लक्षण है।

मुंह से बदबू आने का कारण और उपचार

  • अगर दांतों से खून और मवाद आता है तो गुलाब के फूल को डंठल सहित चबाने से लाभ होता है।
  • अगर मुंह से बदबू आती है तो लौंग खाकर सोने से बदबू दूर हो जाएगी।
  • सुबह उठने के बाद एक बार और रात को सोने से पहले एक बार अपने दांतों को ब्रश करें।
  • हफ्ते में दो से तीन बार नीम के दातुन का इस्तेमाल करें, इससे मुंह में मौजूद बैक्टीरिया पूरी तरह से खत्म हो जाएंगे और बदबू की समस्या ठीक हो जाएगी।
neem
नीम (Neem)
  • स्वच्छ और शाकाहारी भोजन करें। मांस, मछली का अधिक सेवन न करें और खाने के बाद दो बार कुल्ला करने की कोशिश करें।
  • मुंह और पेट को सूखने न दें, जब पेट सूखता है, जिसका असर किडनी, लीवर और आंतों पर पड़ता है और मुंह से बदबू आती है, तो कोशिश करें कि पर्याप्त पानी पिएं।
  • जिन लोगों के मुंह से बदबू आती है और अगर वे शराब, तंबाकू या गुटखा जैसी चीजें खाते या पीते हैं, तो जितनी जल्दी वे इसे कम कर दें, उनके लिए उतना ही अच्छा है क्योंकि अगर मुंह से बदबू आती है और इसका संबंध पेट से है, तो तुरंत नजदीकी डॉक्टर से संपर्क करें।
  • अगर आप आर्टिफिशियल यानी नकली दांतों का इस्तेमाल करते हैं, तो उन्हें नियमित रूप से साफ करने की कोशिश करें।

सांसों की बदबू से बचाव के उपाय

सांसों की बदबू की समस्या से बचने के लिए खान-पान और जीवनशैली में कुछ बदलाव करने की जरूरत होती है। जैसे-

आहार-

ज्यादा मसालेदार खाना, प्याज, लहसुन, अदरक, लौंग और काली मिर्च खाने से सांसों की बदबू आ सकती है। इनका कम इस्तेमाल करें और जब भी करें कुल्ला या ब्रश करके मुंह साफ रखें।

जरूरत के हिसाब से पानी पिएं। शराब और तंबाकू का सेवन न करें, इन दोनों से मुंह सूखता है। च्युइंग गम चबाने या मीठा (चीनी रहित) खाने से लार बनने में मदद मिलती है। अगर आपका मुंह बार-बार सूखता है, तो आप अपने डॉक्टर से लार के प्रवाह को बेहतर बनाने के लिए दवा ले सकते हैं।

प्याज, लहसुन और मसालेदार खाने से दूर रहें। मीठा कम खाएं क्योंकि इससे भी सांसों की बदबू आती है। कॉफी और शराब का सेवन कम करें। नाश्ते में साबुत अनाज खाएं, जिससे आपकी जीभ के पिछले हिस्से को साफ करना आसान हो जाएगा।

धूम्रपान से बचें और तंबाकू से बने दूसरे उत्पादों का सेवन न करें।

No Smoking and cigerate
No Smoking and cigarette
  • दांतों की सफाई के लिए नियमित रूप से डेंटिस्ट के पास जाएं।
  • पाचन क्रिया ठीक न होने और पेट खराब होने के कारण भी मुंह से बदबू आ सकती है। इसके लिए खाने के बाद कुछ देर टहलना या पाचक चीजें लेना जरूरी है।
  • सौंफ, पुदीना, इलायची, मुलेठी, भुना जीरा, धनिया आदि प्राकृतिक माउथ फ्रेशनर हैं जिन्हें खाने के बाद और अन्य समय पर चबाया जा सकता है। इससे मुंह से बदबू कम आएगी।

लाइफस्टाइल

  • मौखिक और दंत स्वच्छता का उच्च स्तर बनाए रखें। नियमित रूप से अपने दांतों को ब्रश करें। ब्रश करने के अलावा दांतों के बीच की सफाई के लिए कुल्ला भी करते रहें।
  • जीभ को साफ करने के लिए चिमटे का इस्तेमाल करें और जीभ की नोक तक साफ करें।
  • अपने डेंटिस्ट के पास नियमित रूप से जाएं और अपने दांतों की अच्छी तरह से सफाई करवाएं।
  • अगर आपके दांत में डेन्चर है तो उसे रोजाना साफ रखें। मुंह की सफाई करके आप बैक्टीरिया के बनने और मुंह में जाने की संभावना को कम कर सकते हैं।
  • दांतों और मसूड़ों को साफ रखना बहुत जरूरी है और एक दिन की सफाई से ऐसा नहीं होगा। आपको अपने शरीर को प्राथमिकता देनी होगी और इन उपायों को अपनी दिनचर्या में शामिल करना होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *