पागलपन का इलाज (Treatment of madness or insanity )

पागलपन या पागलपन का इलाज –

यदि उन्माद, भजन रस, वात और पितृ उन्माद के कारण रोगी शारीरिक रूप से कमजोर हो गया हो तो भांगरे के रस और शहद के साथ इसका सेवन करें। एक सप्ताह तक इसका सेवन करने के बाद रोगी को रेचक औषधि दी जा सकती है। रोगी को उन्माद भंजन रस की एक गोली सुबह और एक गोली शाम को भांगरे के रस और शहद के साथ लेनी चाहिए।

उन्माद, गजनकुश रस 125 मिलीग्राम, चिंतामणि चतुर्मुख (60 मिलीग्राम), ब्राह्मी वटी (60 मिलीग्राम), स्वर्णमाक्षिक भस्म (125 मिलीग्राम), इन सबको ओखली में अच्छी तरह मिला लें और इसमें ब्राह्मी घृत (50 ग्राम) और मिश्री (5 ग्राम) मिला दें। रोगी को सुबह और शाम के समय चटाने से बहुत लाभ मिलता है। इस योग का प्रयोग सभी प्रकार के पागलपन में किया जा सकता है।

→ रस-वातिक एवं पितृ उन्माद की मध्यम एवं जीर्ण अवस्था में वटचिंतामणि अत्यंत लाभकारी है। चिंतामणि रस 125 मि.ग्रा. शंखपुष्पी के रस को शहद के साथ सुबह और शाम सेवन करने से पागलपन का रोग जल्दी ही दूर हो जाता है।

→ चिंतामणि चतुर्मुख रस – उन्माद की स्थिति में चतुर्मुख रस (125 मिलीग्राम) को शंखपुष्पी स्वरस और शहद के साथ मिलाकर सेवन करने से रोगी को शीघ्र राहत मिलती है। चतुर्मुख रस सियानोटिक उन्माद के साथ गैस की अधिकता को दूर करने में अधिक लाभकारी है।

→ लहवानंद रस- पैतृक विकार से उत्पन्न पागलपन की प्रारंभिक अवस्था में, जब रोगी को गैस और कफ संकुचन हो और टाइफाइड पागलपन में पित्त की अधिकता हो तो लहवानंद रस की एक-एक गोली सुबह और शाम, पित्त पापड़ा, लें। विहिदाने. और परवल के रस में शहद मिलाकर पिला दें।

योगेन्द्र रस – पितृदोष या धातु क्षय के कारण वायु प्रदूषण के कारण यदि उन्माद की विकृति उत्पन्न हुई हो तो 125 मि.ग्रा. योगेन्द्र रस को त्रिफला शीत कषाय और शहद के साथ मिलाकर सेवन करें। योगेन्द्र रस का सेवन सुबह और शाम उबले हुए गाय के दूध के साथ भी किया जा सकता है।

कफ संकुचन में त्रैलोक्य चिंतामणि रस, वातिक उन्माद में रोग की पुरानी अवस्था में, त्रिदोषपज उन्माद में वायु का बल अधिक होने पर, उन्माद के आरंभ में ताल शाखा का रस, रोग की पुरानी अवस्था में त्रिफला का कषाय और शहद मिलाकर सेवन करने से रोग ठीक हो जाता है। देना। यदि रोगी को पहले से ही सूजाक रोग है तो गाय के दूध के साथ इसका सेवन करें।

उन्माद- उन्माद के लिए गजकेसरी रस सबसे कारगर औषधि है। कफ हिस्टीरिया की प्रारंभिक अवस्था में तथा कफ हिस्टीरिया में कफ का संकुचन होने पर इस औषधि का सेवन बहुत लाभकारी होता है। 125 मिलीग्राम. उन्मद्गज केसरी के रस में शहद मिलाकर शंखपुष्पी के रस के साथ दिन में दो बार सेवन करने से पागलपन जल्दी दूर हो जाता है। यह औषधि घी के साथ भी दी जा सकती है।

बृहत सिंघानाद गुग्गुलु – किसी भी पागलपन की स्थिति में, यहां तक कि जब रोगी को कब्ज की समस्या हो, तो गुग्गुलु की एक गोली सुबह और एक गोली शाम को गर्म पानी या उबले हुए गाय के दूध के साथ लें।

→ वातकुलान्तक रस – वातकुलान्तक रस का सेवन वातकुलान्तक रस का सेवन करने से वातकुलान्तक रस का सेवन करने से वातकुलान्तक रस का सेवन करना लाभकारी होता है। वात कुलान्तक रस की एक गोली सुबह और एक गोली शाम को अदरक के रस और शहद के साथ मिलाकर लें।

उन्मद कुठार रस, उन्मदध्वंस रस, कामदुधा रस, भूतकुश्रास, चंदभैरव रस, सुत शेखर रस आदि का सेवन करने की सलाह दी जाती है। उपरोक्त रस और औषधियों के अलावा आयुर्वेदिक चूर्ण, भ्रमर, पिष्टी, स्वरस और आसव भी इसमें बहुत मदद करते हैं। उन्माद को नष्ट करना.

सर्पगंधा चूर्ण- पित्त और पित्त की खराबी के कारण उत्पन्न उन्माद में तीव्र लक्षण प्रकट होने पर सर्पगंधा चूर्ण का प्रयोग करना बहुत लाभकारी होता है। सर्पगंधा चूर्ण की एक ग्राम मात्रा को घी या शहद के साथ दिन में दो बार सेवन करना चाहिए। यदि रोगी को नींद नहीं आ रही हो तो सोते समय पानी के साथ सर्पगंधा वटी का सेवन किया जा सकता है।

प्रवालपिष्टी- पित्त की प्रधानता से उत्पन्न उन्माद में प्रवालपिष्टी का सेवन बहुत लाभकारी होता है। 250 मिलीग्राम. प्रवाल पिष्टी को ब्राह्मी के स्वरस और शहद के साथ मिलाकर दिन में दो बार देने से उन्माद की विकृति कम हो जाती है।

→ सारस्वत चूर्ण- जब सभी प्रकार के उन्मादों में रोगी की याददाश्त चली जाए और मन में बहुत बेचैनी या बैचेनी हो तो सारस्वत चूर्ण का प्रयोग करना चाहिए। 3 ग्राम की मात्रा दिन में दो बार सुबह-शाम घी या शहद के साथ

इसे एक साथ सेवन करने से उन्माद रोग ठीक हो जाता है। → मुक्ता पिष्टी- पित्त की प्रधानता से होने वाले हिस्टीरिया में मुक्ता पिष्टी बहुत उपयोगी है। दिन में दो बार 60 मिलीग्राम। मुक्ता पिष्टी को 100 ग्राम की मात्रा में ब्राह्मी घी के साथ सेवन करना बहुत फायदेमंद होता है। दवा लेने के साथ-साथ रोगी दूध भी पी सकता है।

→ ब्राह्मी का स्वरस – ब्राह्मी का स्वरस 40 ग्राम, कूट चूर्ण 3 ग्राम तथा शहद 10 ग्राम – तीनों को मिलाकर सुबह-शाम सेवन करने से वातिक उन्माद शीघ्र नष्ट हो जाता है। यह हिस्टीरिया की प्रथम तथा मध्य अवस्था में यदि स्मृति हो तो विशेष उपयोगी है।

औषधियों का सेवन तथा चिकित्सक के परामर्श से उन्माद के रोगी को सारस्वतारिष्ट की 10 मिलीलीटर मात्रा दें। तथा अश्वगंधारिष्ट 15 मि.ली. इन दोनों को इतने ही पानी में मिलाकर भोजन के बाद पीने से बहुत लाभ होता है

Leave a Comment